October 30, 2020
  • October 30, 2020
sury bhedi paranayam

sury bhedi paranayam kashe Kare or labh

By on February 21, 2019 0

sury bhedi paranayam kashe Kare or labh

paranayam kya ha :-

pran का अर्थ उर्जा अथवा जीवनी शक्ति है तथा आयाम का अर्थ उर्जा को नियंत्रित करना है। ईस अर्थ में paranayam का तात्पर्य एक यैसी क्रीया है जिसके द्वारा प्राण का विस्तार व प्रसार कीया जाता है तथा उसे नियंत्रण में भी रखा जाता है।

Pranayama: –

Prana means energy or life force and dimension means controlling energy. In this sense, the meaning of pranayam is a form of action through which prana is expanded and spread and it is also kept in control.

1 सम या नाडी शोधन प्रणायाम :-

यह प्राणायाम का एक सरल प्रकार हैं , जो कहीं भी किया जा सकता है ।

विधि:-

आरामदेह स्थिति में बैठे तथा थोड़ी देर के लिए श्वसन पर ध्यान दिजीए । उसके बाद , धीरे धीरे नाक से ही सॉस अंदर ले और पूरी तरह नाक साँस छोड़ दें ।

लाभः –

शरीर में तनाव के हॉर्मोन की मात्रा कम करने में मदद करता है । मन की एकाग्रता बढ़ाने में मदद करता है ।

1 Sam and Asana Pranayama: –

These are a simple type of pranayama, which can be done anywhere.

The method:-

is sitting in comfortable condition and focus on respiration for a while. After that, slowly take the sauce inside the nose and leave the nose completely.

Benefits: –

Helps reduce the amount of hormone stress in the body. Helps in increasing the concentration of the mind.

2 अनुलोम विलोम प्रणायाम :-

यह हठ योग में किया जाने वाला प्राणायाम का एक ‘ प्रकार है । इसे नाड़ी शोधन प्राणायाम भी कहा जाता

Ashwani Mudra ईसे भी पढें https://mantragyan.com/kriya-yog/ashvin-mudra-vajroli-mudra-kase-karte-ha/

विधिः-

दायी नासिका बंद कर के बांयी नासिका से । धीरे धीरे साँस लें । अब बायीं नासिका को बंद कर दायीं नासिका से साँस छोड़ें । पहली प्रक्रिया को दायीं नासिका के साथ दोहराएँ । उंगलियों को कैसे रखा जाएः दाँयी नासिका बंद करने के लिए बायें हाथ का अंगुली तथा , बाँयी नासिका बंद करने के लिए बाये हांथ की अंगूठे का उपयोग करें ।

लाभः-

त्रिदोषों ( कफ , पित्त तथा वात ) का संतुलन

2 Anholom vilom pranayama: –

This is a ‘type of pranayama being done in Hatha Yoga. It is also called pulse purification pranayama.

Method: –

By closing the right nail and leaving the left nostril. Breathe slowly. Now stop the left nostrils and breathe from the right nostril. Repeat the first process with the right nostril. How to keep the fingers: Use the thumb of the left hand to close the right nostril and the left thumb to close the left nostril.

Benefits: –

Balance of diarrhea (cough, gall and vata)

3 सूर्य भेदी प्रणायाम :-

योग के अनुसार दाहिनी नाड़ी सूर्य नाड़ी कहलाती है ।

विधिः –

इस प्राणायाम को खाली पेट करें । बांयी ,नासिका बंद कर के दाँयी नासिका से साँस लें । अब ,जितनी सामर्थ्य है त्रीबंध लगा कर फेफडे में हवा रोके रखें थक जाने पर बायीं नासिका बंद कर के दायीं नासिका से धीरे धीरे साँस छोड़े । उंगलियों को कैसे रखें

विधि :-

बांयी नासिका बंद करने के लिए बायें हाथ का अंगुठे का तथा , दोनो नासिका बंद करने के लिए अंगूठे और उंगली दोनों का उपयोग करें ।

लाभ : –

प्राणिक ऊर्जा , पाचन तंत्र मजबूत करता है, शारीरिक ऊर्जा तथा शक्ति बढ़ाने में मदद करता है । तंत्रिका तंत्र , विशेषतः- अनुकंपी तंत्रिका तंत्र को ऊर्जा प्रदान करता है ।

3 Sun-piercing Pranayama: –

According to yoga, the right pulse is called Sun Dali.

Method: –

According to yoga, the right pulse is called Sun Dali. Method: Make this pranayama empty. Close the left, nasal, and breathe from the right nostril. Now, as much as the strength is, let the air stop in the lungs. When you get tired, close the left nostrils and breathe slowly with the right nostril. How to fingers

Benefits: –

Pranic energy strengthens the digestive system, helps in enhancing physical energy and strength. The nervous system, in particular, provides energy to the sympathetic nervous system.

Sadhna जानकारी के लिये हमारे यूटूब पर देखें

YouTube.com/mantragyan

focus word :-

sury bhedi paranayam kashe Kare or labh के बारे में जाना ,तो साधना करें और लाभ उठायें। हमारे सांथ बने रहें जीससे हमे अध्यात्मिक जानकारी देने का सेवा मील सके, और आप अध्यात्मिक ऊंचाई प्राप्त करें। paranayam kashe Kare article को साधको में शेयर कर आप भी पुन्य लाभ जरूर उठायें।

धन्यवाद

क्रिया योग ,ध्यान योग ,मंत्र साधना शिविर में शामिल होना चाहते है तो संपर्क करे वाट्स अप नं 7898733596 साधना विषय :- 1.क्रीया योग की उस गुप्त साधना का अभ्यास जिनका, वीडियो या लेख में बताना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। २. ध्यान की खाश तकनीक। ३. मंत्र योग की खाश विधि। ४. समाधी की गुप्त रहस्य। ५. कुंडलिनी जागरण की गुप्त और विशेष टेक्निक। 6. आर्थिक और आध्यात्मिक विकास के लिये विशेष साधना विधि नोट :- Lockdown के बाद साधना शिविर में शामिल होकर आध्यात्मिक विकास करें । यदि आप का भाग्य में गुरु क्रपा नहीं है तो आप अभागा हैं। और गुरु दीक्षा लेकर ईस दिन गुरू मंत्र का विशेष अनुष्ठान कीया तो अभागा भी महा पुण्य वान, माहा भाग्यशाली बन जायेगा सिर्फ श्रद्धा विश्वास रखता हो !