November 29, 2020
  • November 29, 2020

Pyar Kya hai Bhakti Kya

by on January 26, 2019 1

Pyar Kya ha Bhakti Kya Pyar Kya ha Bhakti Kya ईस लेख में हम समझेंगे, आज के दौर में जैसे चलन में है की मै फलाना -फलाना वस्तु कमा कर सूखी होऊंगा यह अहंकार का भोग का रास्ता है ,Pyar Kya ha Bhakti Kya ? प्यार में संजोया नहीं जाता यानी...

Read More

Dhyan Me Man Ki Bakbak

by on January 24, 2019 2

Dhyan Me Man Ki Bakbak Dhyan Me Men Ki Bakbak को कैसे रोके लोग जब मेडिटेशन करते हैं त्राटक करते हैं तो उनकी मन की तरंगे तेज क्यों हो जाती है? किन कारणों से Dhyan Me Man Ki Bakbak यानि मन की तरंगें तेज हो जाती हैं ? कौन सा ज्ञान...

Read More

Ashnashth dhyan Vidhi

by on January 9, 2019 0

Asnashth dhyan Asnashth dhyan क्या है ? :- आसन का अर्थ है हमारे शरीर की स्थिति और ध्यान का मतलब आत्मा में विश्राम करना, Asnashth dhyan का मतलब आत्मा नंद मे आराम करना । Asnashth dhyan व्यक्ति सहज ही चिदात्‍म सरोवर में आनंदित हो जाता है। यह रहस्य है, और समझ...

Read More

उपवास का अर्थ और विधि

by on January 8, 2019 0

उपवास का अर्थ और विधि उपवास :- उप +वास , यानि आत्मा के समीप निवास करने की विधी को उपवास का अर्थ और विधि कहते हैं। कुछ लोग उपवास का अपने मन से ही अर्थ समझ लिया है कि चावल भोजन न खाये भले ही भारी भोजन जैसे डालडा घीं से...

Read More

Dhyan, Puja Ki vidhi

by on November 23, 2018 0

Dhyan, Puja Ki vidhi Puja vidhi :- जीस भी साधक को आसानी से ब्रम्ह ज्ञान प्राप्त करना हो नीत्य ईस Dhyan, puja Ki Vidhi का चिंतन करना चाहिये, or पुजा की श्रेष्ठ विधि अपने शरीर सहित संपूर्ण जगत को स्वपन भ्रम मानना जरूरी है, but सभी ईस माया संसार को सत्य...

Read More
क्रिया योग ,ध्यान योग ,मंत्र साधना शिविर में शामिल होना चाहते है तो संपर्क करे वाट्स अप नं 7898733596 साधना विषय :- 1.क्रीया योग की उस गुप्त साधना का अभ्यास जिनका, वीडियो या लेख में बताना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। २. ध्यान की खाश तकनीक। ३. मंत्र योग की खाश विधि। ४. समाधी की गुप्त रहस्य। ५. कुंडलिनी जागरण की गुप्त और विशेष टेक्निक। 6. आर्थिक और आध्यात्मिक विकास के लिये विशेष साधना विधि नोट :- Lockdown के बाद साधना शिविर में शामिल होकर आध्यात्मिक विकास करें । यदि आप का भाग्य में गुरु क्रपा नहीं है तो आप अभागा हैं। और गुरु दीक्षा लेकर ईस दिन गुरू मंत्र का विशेष अनुष्ठान कीया तो अभागा भी महा पुण्य वान, माहा भाग्यशाली बन जायेगा सिर्फ श्रद्धा विश्वास रखता हो !