October 30, 2020
  • October 30, 2020
  • Home
  • KHASH DAY PANCHANG
  • शिव रात्रि मंत्र सिद्धि का खाश संयोग

शिव रात्रि मंत्र सिद्धि का खाश संयोग

By on February 11, 2019 0

शिव रात्रि मंत्र सिद्धि का खाश संयोग

siv ratri mahatv

siv

 

इस लेख में मैं आपको बताने वाला हूं, शिव रात्रि मंत्र सिद्धि का खाश संयोग क्यों है, शिव रात्रि का महत्व क्यों है और शिवरात्रि क्यों मनाई जाती है इस दिन के लिए खाश मंत्र आपको बताने वाला हूं ।

शिव रात्रि क्यों मनाते हैं :-

भगवान शिव की महिमा अपरंपार है , परमात्मा शिव की आराधना से ही मुक्ति और जीवन मुक्ति मिलती है भारतीय संस्कृति में महा शिव रात्रि का पर्व के दिन ही सभी देवों के आराध्य परमात्मा शिव और पार्वती का विवाह संपन्न हुआ था । शिव रात्रि मंत्र सिद्धि का खाश संयोग है क्योंकि यह संयोग 51 वर्ष बाद बना है क्योंकि ईस बार शिव रात्रि सोमवार को है।

तारीख :- 3/4/2019

shiv ratri

shiv ratri

शिव रात्रि मंत्र सिद्धि का खाश संयोग

मंत्र का महत्व :-

बहुत ही चमत्कारी मंत्र है किसी भी ग्रह दोष को दूर करता है ,और ज्योतिष की जब हम बात करते हैं तो केवल नवग्रह को छोड़कर बाकी सभी ग्रह भगवान रूद्र यानी शिव के क्रोध से बने हुए हैं अधिकतर ग्रह की प्रकृति आमतौर पर हानिकारक होती है लेकिन कुछ नवग्रह अधिक शुभ माने जाते हैं, इनकी पूजा-अर्चना न कर भी ईस एकाक्षर मंत्र को सिद्ध कर लें तो मनुष्य की समस्त समस्याओं को हर लेते हैं ।

हर कोई किसी न किसी ग्रह दोष से ग्रस्त होता ही है कई बार उसे पता भी नहीं चलता कि किस वजह से उसकी जिंदगी में तूफान हुआ हुआ है जो कि थमने का नाम नहीं ले रहा किस वजह से उसका जीना मुहाल हो रहा है और जब हम इन को कंट्रोल करने की बात करते हैं तो बहुत सारे उपाय

जैसे :- अंगूठियां ,महँगे – महँगे दान , तीर्थ स्थल आदि करते रहते है जो एक आम इंसान के लिए पॉसिबल नहीं है किसी- किसी के पास इतने पैसे भी नहीं होते कि घर में चूल्हा जला के खर्चे उठाए तो ऐसे में इन उपायों को करना नामुमकिन हो जाता है ,और आज के युग में कौन सही है कौन गलत है पहचानना मुश्किल है ऐसे में बीगडे भाग्य ठीक करने का ईष्ट को प्रसन्न करने का घर बैठे छोटा सा आसान उपाय कर सकते हैं । एक ऐसा चमत्कारी मंत्र है जो आपकी भाग्य के है हर पीड़ा का अंत कर देता है ।

क्यों सीद्ध करें :-

1.आपका बच्चा जप करे तो मन पढ़ने में लगेगा ।

2.आप के घर में कलह है तो कलह दूर हो जाएगा ।

3. व्यापार वृद्धि नहीं हो रहा तो व्यापार वृद्धि होगा

4.अगर आप नौकरी की तलाश कर रहे हैं तो आपको नौकरी मिलेगा ।

5.आपकी अगर प्रमोशन नहीं हो रहा तो आपको प्रमोशन हो सकता है !

6.आपके जीवन में ग्रह दोष है।

mahamantra

mahamantra

बस इस मंत्र को आप समझो और शिवरात्रि के इस खास दिन से आप शुरू करो ,शिव जी का एकाक्षर मंत्र ,भगवान शिव की महिमा अपरंपार है, देवों के देव महादेव त्रिलोकी नाथ , परमात्मा शिव की आराधना से असानी से मुक्ति ,भक्ति और भौतिक सुख सुविधा रिद्धि सीद्धिया मील सकता है। और जीवन मुक्ति मिलती है ।

शिव रात्रि मंत्र सिद्धि का खाश संयोग :-

जो मंत्र आगे बताया है ईस मंत्र को अगर ईस दिन से शुरू की जाये तो लाखो गुणा फल देगा। यह मंत्र सभी मंत्रो में श्रेष्ठ है, और ईस मंत्र को सभी मंत्रो के आगे या पीछे लगाये बगैर कोई भी मंत्र पूर्ण नहीं होता।

मंत्र :- ” ऊँ “

अनुष्ठान विधि :-

किसी भी गरम आसन में उत्तर या पूर्व दिशा की ओर बैठकर अपने गुरु चित्र के सामने हाथ में जल लेकर जो भी आपकी समस्या है उसे आप …….. अमुक समस्या मेरे खत्म होने के लिए मैं गुरु से प्रार्थना करता हूं शिवजी मुझ पर प्रसन्न हो ऐसा कह कर हाथ से जल जमीन में छोडें !

जप संख्या :-

108-108 सुबह – शाम और शील रात्रि के बाद भी नित्य जप जारी रखे संख्या 21 माला सुबह शाम या 51माला एक ही बैठक में।

Focus Words :-

आप इस शिव रात्रि मंत्र सिद्धि का खाश संयोग लेख को पढ़ा आप सच में बधाई के पात्र हैं क्योंकि आप को शिव रात्रि का खाश संयोग की जानकारी हो गई, आपकी अब सारी समस्या खत्म होने वाली है बस आपको शुरुआत करनी है ।

मैं परमात्मा से प्रार्थना करता हूं कि आपका मन सदा सदा के लिए भगवान की भक्ति में लगा रहे ,आनंद प्राप्त करें ,परमात्मा के ज्ञान प्राप्त करें, मुक्ति प्राप्त करें ,और सेवा में आपका मन लगा रहे इस शिव रात्रि मंत्र सिद्धि का खाश संयोग लेख अपने साधक भाइयों तक शेयर करके पुण्य लाभ अवश्य कमाए ।

धन्यवाद

क्रिया योग ,ध्यान योग ,मंत्र साधना शिविर में शामिल होना चाहते है तो संपर्क करे वाट्स अप नं 7898733596 साधना विषय :- 1.क्रीया योग की उस गुप्त साधना का अभ्यास जिनका, वीडियो या लेख में बताना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। २. ध्यान की खाश तकनीक। ३. मंत्र योग की खाश विधि। ४. समाधी की गुप्त रहस्य। ५. कुंडलिनी जागरण की गुप्त और विशेष टेक्निक। 6. आर्थिक और आध्यात्मिक विकास के लिये विशेष साधना विधि नोट :- Lockdown के बाद साधना शिविर में शामिल होकर आध्यात्मिक विकास करें । यदि आप का भाग्य में गुरु क्रपा नहीं है तो आप अभागा हैं। और गुरु दीक्षा लेकर ईस दिन गुरू मंत्र का विशेष अनुष्ठान कीया तो अभागा भी महा पुण्य वान, माहा भाग्यशाली बन जायेगा सिर्फ श्रद्धा विश्वास रखता हो !