October 22, 2020
  • October 22, 2020

Surya Upasana, Makar Sakranti

By on January 15, 2019 0

Surya Upasana ,Makar Sakranti

Makar Sakranti :-

के दिन स्नान, दान, जप, तप का प्रभाव ज्यादा होता है ! उत्तरायण यानी Surya Upasana, Makar Sakranti के एक दिन पूर्व रात को भोजन थोडा कम लेना ! दूसरी बात, Makar Sakranti के दिन पंचगव्य का पान पाप नाशक एवं विशेष पुण्य दायी माना गया है !

त्वचा से लेकर अस्थि तक की बीमारियों की जड़ें पंचगव्य उखाड़ के फेंक देता है ! पंचगव्य आदि न बना सको तो कम-से-कम गाय का गोबर, गोझारण, थोड़े तिल, थोड़ी हल्दी और आँवले का चूर्ण इनका उबटन बनाकर उसे लगा के स्नान करो अथवा सप्त धान्य उबटन से स्नान करो !

Sapt Dhany

1. पिसे हुए गेहूँ,

2. चावल,

3. जौ,

4. तील ,

5. चना,

6.मूँग और

7. उड़द से बना मिश्रण !

Surya Upasana :-

A. इस Makar Sakranti पर्व पर जो प्रात: स्नान नहीं करते ” विकट परिस्थिति को छोड कर ” हैं वे सात जन्मों तक रोगी और निर्धन रहते हैं !

B. मकर संक्रांति के दिन सूर्योदय से पहले स्नान करने से दस हजार गौदान करने का फल शास्त्र में लिखा है

C. और इस दिन सूर्यनारायण का मानसिक रूप से ध्यान करके मन-ही-मन उनसे आयु-आरोग्य के लिए की गयी प्रार्थना विशेष प्रभावशाली होती है !

D. इस दिन किये गए सत्कर्म विशेष फलदायी होते हैं !

E. इस दिन भगवान् शिव को तिल, चावल अर्पण करने अथवा तिल, चावल मिश्रित जल से अर्घ्य देने का भी विधान है !

F. Makar Sakranti के दिन रात्रि का भोजन न करें तो अच्छा है लेकिन जिनको सन्तान है उनको उपवास करना मना किया गया है !

G. इस दिन जो 6 प्रकार से तिलों का उपयोग करता है वह इस लोक और परलोक में वांछित फल को पाता है :-

1. पानी में तिल डाल के स्नान करना !

2. तिलों का उबटन लगाना !

3. तिल डालकर पितरों का तर्पण करना, जल देना !

4. अग्नि में तिल डालकर यज्ञादि करना !

5. तिलों का दान करना !

6. तिल खाना !

गुरू महिमा लेख ईसे भी पढ़े 👉https://mantragyan.com/sad-guru-ki-mahima-guru-bhakti/

सावधानियां :-

1. तिलों की महिमा तो है लेकिन तिल की महिमा सुनकर तिल अति भी न खायें और रात्रि को तिल और तिलमिश्रित वस्तु खाना वर्जित है !

Surya Upasana, Makar Sakranti

उत्तरायण पर्व के दिन सूर्य-उपासना करें

मंत्र :-

आदित्याय विदमहे भास्कराय धीमहि ! तन्नो भानु: प्रचोदयात् ।

इस सुर्य गायत्री के द्वारा सूर्यनारायण को अर्घ्य देना विशेष लाभकारी माना गया है अथवा तो

ॐ सूर्याय नम: !

ॐ रवये नम: ।

ऊँ खगाय नमः… करके भी अर्घ्य दे सकते है

आदित्य देव की उपासना करते समय अगर सूर्य गायत्री का जप करके ताँबे के लोटे से जल चढाते है और चढ़ा हुआ जल जिस धरती पर गिरा, वहा की मिटटी का तिलक लगाते हैं तथा लोटे में 6 घूँट बचाकर रखा हुआ जल महामृत्युंजय मंत्र का जप करके पीते हैं तो आरोग्य की खूब रक्षा होती है ! आचमन लेने से पहले उच्चारण करना होता है

मंत्र :-

अकालमृत्युहरणं सर्वव्याधिविनाशनम

सूर्यपादोदकं तीर्थ जठरे धारयाम्यहम ।।

अर्थ :-

सूर्य भगवान जो अकाल मृत्यु को हरते हैं का चरणों का जल मैं अपने जठर में धारण करता हूँ !
जठर भीतर के सभी रोगों को और सूर्य की कृपा बाहर के शत्रुओं, विघ्नों, अकाल-मृत्यु आदि को हरे !

अति महत्वपूर्ण :-

Upasana, Makar Sakranti दिन अपने गुरू सानिध्य अवश्य प्राप्त करें। अपने गुरू मंत्र का जप ज्यादा से ज्यादा करें 10,000 गुणा लाभ मिलता है, जप के बाद ध्यान लगाना जरूरी है । जिनके पास गुरू है वह अधिक कर्म कांड में न फसें और सर्व गुरू को मान कर गुरू की आशीष प्राप्त करें। आत्म विश्रांति साधना के लिये यूटूब पर देखें 👉 YouTube.com/mantragyan

क्रिया योग ,ध्यान योग ,मंत्र साधना शिविर में शामिल होना चाहते है तो संपर्क करे वाट्स अप नं 7898733596 साधना विषय :- 1.क्रीया योग की उस गुप्त साधना का अभ्यास जिनका, वीडियो या लेख में बताना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। २. ध्यान की खाश तकनीक। ३. मंत्र योग की खाश विधि। ४. समाधी की गुप्त रहस्य। ५. कुंडलिनी जागरण की गुप्त और विशेष टेक्निक। 6. आर्थिक और आध्यात्मिक विकास के लिये विशेष साधना विधि नोट :- Lockdown के बाद साधना शिविर में शामिल होकर आध्यात्मिक विकास करें । यदि आप का भाग्य में गुरु क्रपा नहीं है तो आप अभागा हैं। और गुरु दीक्षा लेकर ईस दिन गुरू मंत्र का विशेष अनुष्ठान कीया तो अभागा भी महा पुण्य वान, माहा भाग्यशाली बन जायेगा सिर्फ श्रद्धा विश्वास रखता हो !