October 30, 2020
  • October 30, 2020

Sabhi Manokamna Pura Kevli Kumbhak Vidhi

By on April 4, 2019 2

Sabhi Manokamna Pura Kevli Kumbhak Vidhi

Kevli Kumbhak सिद्धी किए हुए योगी की अपनी तो सभी मनोकामनाएँ पूरा होती है, इतना ही नही उसका पूजन करके श्रद्धा वान लोग भी अपनी मनोकामनाएँ पूर्ण करने लगते हैं !

तीन दिन के नियमीत अभ्यास से जीवन में चमत्कार घटने लगता है ।

Sabhi Manokamna Pura Kevli Kumbhak Vidhi

अच्छे हेल्थ की विधि भी पढें https://mantragyan.com/yog-or-health-tips/achchhe-helth-ke-leeye-gharelu-tips/

विधि :-

पध्मासन,सिद्ध आसन,सुख आसन जो भी आसन आपको उचीत हो उसमें स्वस्थ हो के बैठे ! बैठने के स्थान पर गर्म कपडे, आसन बिछा कर ही बैठे फ़िर क्रीया योग करने के बाद

क्रिया योग विधि भाग 5 :-

स्वास बाहर निकाल दिया और मूल बंध उङियान बंध ज!लंधर बंध तीनों बंध लगा के स्वास बाहर ही रोक कर कम से कम चालीस (30) सकेंड़ (second ) बाहर ही रोक के रखें मन में ॐ कार का मन ही मन प्रीति पूर्वक जप करें या गुरु मन्त्र का जप जप चालू रखना फ़िर धीरे – धीरे भग्वद भाव ईश्वरीय ओज तेज को भीतर नासिका से भरने का फीलींग करना ।

Kevli Kumbhak Vidhi

फिर मूल बंध और जालँधर बंध लगाए मन में ॐ कार का,गुरु मन्त्र का ” मन्त्र दीक्षा ” में मिला है उसका प्रीति पूर्वक जप केवल 60 सेकंड एक मिनिट । जीतनी देर रोक सके उत्तम है ।

अब फिर से स्वास बाहर निकाल कर त्रीबंध के साथ रोके रखें, याने स्वास बाहर रोकना और अंदर रोकने की विधि बगैर आराम करे लगातार करते रहना है, “जाय्दा ना करें अंदर 5 बाहर 5 बार करने के बाद सांभवी मुद्रा में ध्यान लगायें।

लाभ :-

बीमारियाँ ,पाप दोष निकलेंगे और भगवान की मधुरता ,औदार्य और पूर्णता का अहसास एवम सीद्धी होगी !

मन निर्मल एवम हृदय पवित्र होता जाएगा, केवल तीन दीन के सम्यक अभ्यास से आप जीवन में पहले जैसा हो वैसे नही रहोगे, यानी आध्यात्मिक ,आधीभोतीक, आधीदेवीक, उन्नति होना शुरु हो जायेगी जिसका आपको प्रत्यक्ष अनुभव कर पायेंगे ।

Kevli Kumbhak Vidhi

कुछ समय के अभ्यास से केवल या केवली कुंभक स्वंय प्रकट होता है और संत जन तो कहते हैं , जो साधक पूर्ण एकाग्रता से त्रिबंघ सहित प्राणायाम अभ्यास द्वारा केवली कुंभक का पुरुषार्थ सिद्ध कर्ता है उसके भाग्य का तो पूछना ही क्या ! उसकी व्यापकता बढ़ती जाती है अंतर में महानता का अनुभव होता है काम,क्रोध,लोभ,मोह,मद,और मत्सर इन छ: शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है ।

त्रिबंध कैसे करें , क्रीया योग कैसे करें 👉YouTube.com/mantragyan

Focus Word :-

Sabhi Manokamna Pura Kevli Kumbhak Vidhi, लेख में बताए हुए नियम का जो भी साधक श्रद्धा विश्वास के सांथ साधना करेगा उनका खुद का तो भाग्य सवंरेगा ही, और जो भी लोग ईस साधना को को पुरा करा है उनके निकट आने वाले का भी मनोकामना पूर्ण होने लगेगा। मै परमात्मा से प्रार्थना करता हूं आप अवश्य साधना करें। Sabhi Manokamna Pura Kevli Kumbhak Vidhi लेख अन्य साधको में शेयर करे और पुन्य लाभ जरूर कमायें।

Thank you

क्रिया योग ,ध्यान योग ,मंत्र साधना शिविर में शामिल होना चाहते है तो संपर्क करे वाट्स अप नं 7898733596 साधना विषय :- 1.क्रीया योग की उस गुप्त साधना का अभ्यास जिनका, वीडियो या लेख में बताना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। २. ध्यान की खाश तकनीक। ३. मंत्र योग की खाश विधि। ४. समाधी की गुप्त रहस्य। ५. कुंडलिनी जागरण की गुप्त और विशेष टेक्निक। 6. आर्थिक और आध्यात्मिक विकास के लिये विशेष साधना विधि नोट :- Lockdown के बाद साधना शिविर में शामिल होकर आध्यात्मिक विकास करें । यदि आप का भाग्य में गुरु क्रपा नहीं है तो आप अभागा हैं। और गुरु दीक्षा लेकर ईस दिन गुरू मंत्र का विशेष अनुष्ठान कीया तो अभागा भी महा पुण्य वान, माहा भाग्यशाली बन जायेगा सिर्फ श्रद्धा विश्वास रखता हो !